जानिए कौन-सी धातु किस ग्रह से संबंध रखती है |Health relation with metals|

अलग-अलग धातुओं का ज्योतिष में क्या महत्व है?

इस दुनिया की हर चीज मनुष्य के ऊपर असर डालती है, अगर मनुष्य उसके संपर्क में आता है। पेड़ पौधे पत्थर पहाड़ पर्वत पानी सब आपके ऊपर असर डालेंगे। तो इसी क्रम में आज हम समझेगे कि जब आप धातुओं का प्रयोग करते हैं तो उनका प्रभाव आपके जीवन पर कैसा पड़ता है। चलिए धातुओं की बात करते हैं।


Gold (सोना) धातु

सबसे पहले जानते हैं सोने के बारे में जिसको कहते हैं, स्वर्ण होने का महत्व क्या है?

Gold (सोना) धातु

देखिए दुनिया की जितनी भी धातु में हैं उसमें सबसे ज्यादा एनर्जी, सबसे ज्यादा ऊर्जा पाई जाती है  गोल्ड यानी (सोना) धातु का सीधा संबंध है बृहस्पति के साथ माना जाता है।

अगर आप सोने का प्रयोग करते हैं तो सोना तीन चीजों पर सीधा असर डालता है।

एक आपके पाचन तंत्र पर आपके डाइजेशन पर दूसरा आपके कुरूद पर और तीसरा आपकी एडमिनिस्ट्रेटिव एबिलिटी पर यानी प्रशासनिक क्षमता पर।

(राशि के अनुसार)




कन्या मकर और कुंभ राशि के लोगों के लिए यह धातु शुभ प्रभाव नहीं देती है। ऐसा देखा गया है कि इन लगनों के लोग या इन राशियों के लोग अगर यह धातु पहनते हैं तो इसके परिणाम उनके लिए बेहतर नहीं होते।


Copper (तांबा) धातु

दूसरी धातु है तांबा, इसको अंग्रेजी में कहते हैं कॉपर! इस धातु का जो गुण है वह जल और अग्नि का मिलाजुला स्वरूप है। इस धातु के अंदर जल भी पाया जाता है और धातु के अंदर अग्नि भी पाई जाती है।

Copper (तांबा) धातु

आमतौर पर जो तांबा है, यह मेडिसिनल धातु है (औषधीय धातु है) औषधि में और शरीर को स्वस्थ करने में इसका काफी प्रयोग होता है।

जब आप तांबा पहनते हैं तो आपकी स्किन पर आपके ब्लड सरकुलेशन यानी रक्त प्रवाह पर और आपके पाचन तंत्र पर डाइजेस्टिव सिस्टम पर इसका सीधा असर पड़ता है।

इसका सीधा संबंध सूर्य और मंगल के साथ होता है। मुख्य रूप से मंगल की धातु है लेकिन सूर्य के साथ भी इसका संबंध बताया जाता है।

(राशि के अनुसार)

मिथुन कन्या और तुला मिथुन कन्या और तुला राशि के लोगों के लिए तांबा अनुकूल नहीं होता। तांबा इनको फायदा नहीं पहुंचाता।


Iron (लोहा) धातु

जो अगली धातु है यानी कि आयरन। जितनी भी धातुएं हैं, उन धातुओं में सबसे ज्यादा रहस्यमई अगर कोई धातु है तो बोलो है रहस्य बहुत है।\

Iron (लोहा) धातु

इसके प्रयोग भी बड़े चमत्कारी हैं और प्राचीन काल से ही आयुर्वेद में लोहे का इस्तेमाल होता रहा है, आज भी होता है। यह शनिदेव की धातु मानी जाती है। इसका संबंध शनिदेव से होता है।

अगर आप लोहे के संपर्क में आते हैं या लोहे का इस्तेमाल करते हैं तो यह आपके ब्लड सरकुलेशन पर आपकी हड्डियों पर आपके बालों पर और आप की कोशिकाओं यानी सेल्फ पर असर डालता है।

(राशि के अनुसार)

यह धातु मकर और कुंभ राशि के लोगों के लिए सबसे ज्यादा फायदेमंद होती है और सिंह राशि के लिए सबसे ज्यादा निगेटिव मानी जाती है।


 Steel (इस्पात)  धातु

स्टील जो है, यह कंपाउंड मेटल है। दो अलग-अलग कंपाउंड से मिलकर बना है। हालांकि इसके जो गुण हैं, वह लोहे से काफी मिलते-जुलते हैं।

Steel (इस्पात)  धातु

लेकिन दोस्ती है वह शनि की धातु नहीं है। स्टील जो है वह राहु केतु की धातु है। इसका संबंध दुर्घटनाओं से संचार से और शक्ति से होता है।

जिन जिन लोगों को दुर्घटनाओं की समस्या हो, इन्फेक्शन वाली बीमारियां होने की संभावना हो या जीवन में बार-बार उतार-चढ़ाव होता हो। ऐसे लोगों को स्टील जरूर पहनना चाहिए।

स्टील पहनने से आप इंफेक्शन से बचेंगे। जीवन के उतार-चढ़ाव आपके कम होंगे।





Silver (चाँदी) धातु

अगली जो धातु है उसे कहते हैं चांदी यानी सिल्वर यह धातु चांदी जो है। यह बड़ी शीतल धातु है और इसके अंदर भी औषधि के यानी मेडिसिन के गुण पाए जाते हैं।

Silver (चाँदी) धातु

चांदी का सीधा संबंध होता है चंद्रमा के साथ हालांकि कुछ विद्वान इसे शुक्र की धातु भी मानते हैं, लेकिन चांदी मुख्यता चंद्रमा से संबंधित होती है।

चाँदी जो है यह शरीर में कब और जल तत्व को नियंत्रित करती है जब आप चांदी पहने और चांदी आपको सूचना करें तो ख़ासी आने लगेगी। कब बढ़ जाएगा, आपको कोल्ड की प्रॉब्लम होगी। शरीर में वाटर रिटेंशन हो जाएगा और चांदी अगर सूट करे तो क्या होगा, चेहरा चमकने लगेगा। आवाज मीठी हो जाएगी। सर्दी जुखाम कम हो जाएगा

ऐसी धातु है जिसको पहनने से इसका सर-मन के ऊपर पड़ता है। इसलिए जिन लोगों की कुंडली में चंद्रमा खराब होता है, उन्हें चांदी नहीं पहननी चाहिए क्योंकि अगर आप का चंद्रमा खराब हो रहा चांदी पहन लें तो आपका मेंटल लेवल आपकी मानसिक स्थिति बिगड़ सकती है। इस बात का ध्यान रखिए।

(राशि के अनुसार)

मेष सिंह, धनु और मकर राशि वालों के लिए यह धातु आम तौर पर बेहतर नहीं होती।

मेष सिंह, धनु और मकर राशि के लोग जब चांदी पहनते हैं तो अमूमन ऐसा देखा गया है कि उनकी सेहत में उनके स्वास्थ्य में गिरावट आनी शुरू हो जाती है।


Brass (पीतल) धातु

Brass (पीतल) धातु

अगली धातु है पीतल यानी ब्रा। ये जो पीतल है। यह शुद्ध रूप से अग्नि तत्व की धातु है और इसके अंदर कुछ मात्रा में जल पाया जाता है। ज्यादातर अग्नि और थोड़ा सा जल |

इस धातु का संबंध बृहस्पति और चंद्रमा दोनों से है। हालांकि धातु पीली होती है। इसलिए ज्यादातर संबंधित का होता है बृहस्पति के साथ।

जब आप पीतल पहनते हैं या पीतल के संपर्क में आते हैं तो इस धातु का असर शरीर के प्रति पर त्वचा पर और आंखों पर पड़ता है। पीतल आंखें को नुकसान कर सकता है ।

(राशि के अनुसार)

मेष कर्क सिंह, धनु और मीन राशि के लिए आमतौर पर पीतल पहनना शुभ होता है। पीतल धातु का इस्तेमाल करना इनके लिए काफी अच्छा माना जाता है।


Healing stone (हीलिंग स्टोन) के बारे में जानिए ,हीलिंग स्टोन क्या होता है ?

तो अलग अलग तरीके की धातुएं हैं और जब उनका प्रयोग हम करते हैं तो हमारे जीवन पर हमारे भाग्य पर इसका गहरा असर पड़ता है। लेकिन आपको यह समझना होगा कि कौन सी धातु आप को फायदा पहुंचा सकती है और कौन सी धातु आपको फायदा नहीं पहुंचा सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *